दिल्ली बार्डर पर आंदोलन कर रहे किसान संगठनों में ‘बिखराव

हतीन कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ बीते वर्ष 26 नवंबर से दिल्ली-हरियाणा सीमा पर आंदोलन कर रहे किसान संगठनों के नेताओं में मतभेद पहले से थे। कई बार सतह पर भी आए। अब एक बार फिर मतभेद सार्वजनिक होने लगे हैं। भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) हरियाणा के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने संयुक्त किसान मोर्चे से अलग भारतीय किसान मजदूर फेडरेशन बनाकर यह स्पष्ट कर दिया है कि वह संयुक्त किसान मोर्चे के साथ तो रहेंगे, लेकिन अपनी अलग राह पर चलते रहेंगे ।

चढूनी के बाकी संगठनों से अलग होकर फेडरेशन बनाने पर वरिष्‍ठ किसान नेताओं की चुप्‍पी

चढूनी के इस नए संगठन को लेकर अभी तक संयुक्त किसान मोर्चे के नेताओं ने चुप्पी साध रखी है। मोर्चे की सात सदस्यीय कोर कमेटी के सदस्य और स्वराज इंडिया के संयोजक योगेंद्र यादव इंटरनेट मीडिया पर मुखर रहते हैं, लेकिन चढूनी के नए फेडरेशन को लेकर उनका कोई बयान या प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है।

error: Content is protected !!